Wednesday, July 24, 2024
HomeMiscellaneousइंडिया-साउथ अफ्रीका की ताकत और चुनौतियां:रोहित चले तो जीत के चांस ज्यादा...

इंडिया-साउथ अफ्रीका की ताकत और चुनौतियां:रोहित चले तो जीत के चांस ज्यादा पर रबाडा से बचना होगा; डी कॉक-मिलर को रोकना जरूरी

आज रात 8 बजे इंडिया और साउथ अफ्रीका बारबडोस स्टेडियम में वर्ल्ड कप 2024 का खिताब जीतने उतरेंगीं। इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा शानदार फॉर्म में हैं। साउथ अफ्रीकी डीकॉक का बल्ला चल रहा है।
इंडियन फैंस की परेशानी विराट कोहली की फॉर्म है और साउथ अफ्रीका का सबसे बड़ा डर 32 साल से लगा चोकर्स का दाग है। दोनों टीमें फाइनल तक एक भी मैच नहीं हारी हैं। दोनों के पास मैच विनर्स, गेम चेंजर्स हैं। कुछ ताकतें हैं तो कुछ कमजोरियां भी। आइए देखते हैं… इंडिया की ताकत 1. बल्लेबाजी वर्ल्ड कप के 7 मैचों में 2 बार चेज किया। वो भी नसाउ की बेहद मुश्किल पिच पर और दोनों मैच जीते। एक में टारगेट 96 और एक 110 था। इस पिच पर श्रीलंका 77 रन पर ऑलआउट हो गई थी। बल्लेबाजी के सामने चुनौती- यानसन और रबाडा 2. गेंदबाजी इंडियन बॉलर्स ने 5 बार विपक्षी टीम को टारगेट चेज नहीं करने दिया। पाकिस्तान जैसी टीम को 119 रन नहीं बनाने दिए। आयरलैंड अफगानिस्तान और इंग्लैंड को ऑलआउट कर चुकी है। गेंदबाज 7 मैचों में 40 विकेट ले चुके हैं। गेंदबाजी के लिए चुनौती डीकॉक, परेशानी जडेजा साउथ अफ्रीका की ताकत 1. बल्लेबाजी वर्ल्ड कप के 8 मैचों में साउथ अफ्रीका 4 बार चेज करके जीती है। टीम ने एंटीगुआ की पिच पर अमेरिकी टीम के खिलाफ 194 रन स्कोर किए। ऐसी पिच, जहां ओमान की टीम 47 रन पर ऑलआउट हो गई थी। बल्लेबाजी के लिए चुनौती- अर्शदीप और अक्षर 2. गेंदबाजी साउथ अफ्रीकी बॉलर्स ने 2 टीमों को ऑलआउट किया है। टीम ने लगातार 3 उलटफेर करने वाली अफगानिस्तान को पहले सेमीफाइनल में 56 रन पर ऑलआउट कर दिया था। बॉलर्स के दम पर टीम ने 8 में से 4 मैचों में विपक्षी टीम को टारगेट चेज नहीं करने दिया। इनमें 2 बार साउथ अफ्रीका ने 120 से कम टारगेट दिया था। गेंदबाज 8 मैचों में 41 विकेट ले चुके हैं। द. अफ्रीकी गेंदबाजों की चुनौती रोहित, सूर्या और कोहली

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments