Sunday, July 14, 2024
HomeGovt JobsEduCare न्यूज:19 से 22 जुलाई के बीच होगा BPSC TRE 3.0 एग्जाम,...

EduCare न्यूज:19 से 22 जुलाई के बीच होगा BPSC TRE 3.0 एग्जाम, पेपर लीक की वजह से कैंसिल हुई थी परीक्षा

बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (BPSC) ने टीचर्स रिक्रूटमेंट एग्जाम TRE 3.0 एग्जाम के लिए नया नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। अब ये एग्जाम 19 से 22 जुलाई के बीच होगा। जल्द ही एग्जाम का डेट वाइज शेड्यूल ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी कर दिया जाएगा। NEET UG 2017 पेपर लीक केस से भी जुड़ा आरोपी
दरअसल, 20 मार्च को पेपर लीक होने के आरोपों के बाद BPSC ने एग्जाम कैंसिल कर दिया था। मई में बिहार कि EoU यानी इकोनॉमिक ऑफेंसेस यूनिट ने मध्य प्रदेश के उज्जैन से डॉक्टर शिव कुमार को पेपर लीक केस में मुख्य आरोपी के तौर पर गिरफ्तार किया था। बिहार पुलिस ने 16 सॉल्वर्स को भी इस मामले में गिरफ्तार किया था। इस गैंग के 16 में से 11 लोग मेडिकल स्टूडेंट्स हैं। 2017 में NEET UG पेपर लीक केस से भी इस गैंग का नाम जुड़ चुका है। टीचर्स के 87,774 पर भर्ती के लिए दोबारा होगा एग्जाम
अब बिहार में स्कूली शिक्षकों के लगभग 87,774 पदों पर भर्ती के लिए दोबारा एग्जाम कंडक्ट कराया जाएगा। इस एग्जाम के जरिए हेड टीचर, हेड मास्टर और स्कूल टीचर के 87,774 पदों पर भर्ती के लिए 5.81 लाख कैंडिडेट्स ने रजिस्ट्रेशन किया था। 15 मार्च को लगे पेपर लीक के आरोप, 20 मार्च को BPSC ने कैंसिल किया एग्जाम
BPSC TRE 3.0 एग्जाम इसी साल 15 और 16 मार्च को दो शिफ्टों में होना था। 15 मार्च को दोनों शिफ्ट में एग्जाम भी हुए। हालांकि, एग्जाम का क्वेश्चन पेपर परीक्षा से एक दिन पहले यानी 14 मार्च को ही लीक हो चुका था। ऐसे में 16 मार्च को TRE 3.0 की परीक्षा नहीं ली गई और इस एग्जाम को कैंसिल कर दिया गया। वहीं, 15 मार्च को सुबह EoU यानी इकॉनोमिक ऑफेंसेस यूनिट ने झारखंड के हजारीबाग में छापेमारी की और पेपर लीक करने वाले गिरोह से जुड़े सॉल्वर्स को हिरासत में लिया था। BPSC ने 20 मार्च को जांच पूरी होने के बाद माना की पेपर लीक हुआ है और एग्जाम कैंसिल कर दिया। गेस्ट फैकल्टी कर सकती है एग्जाम के लिए फ्रेश एप्लिकेशन
BPSC TRE 3.0 में गेस्ट टीचर्स भी एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकेंगे। बीते दिनों आयोग ने इसे लेकर नोटिफिकेशन जारी किया था। इसके मुताबिक ऐसे टीचर्स जिन्होंने इससे पहले BPSC TRE 3.0 एग्जाम के लिए अप्लाई नहीं किया हो वो 4 से 10 जून के बीच एग्जाम के लिए फ्रेश एप्लिकेशन कर सकते हैं। पटना हाईकोर्ट ने गेस्ट फैकल्टी को वेटेज देने को लेकर पेपर पर रोक लगाई थी
दरअसल, पटना हाईकोर्ट ने BPSC TRE 3.0 पर री एग्जाम होने से पहले ही एग्जाम पर रोक लगा दी थी। हाईकोर्ट में गेस्ट फैकल्टी को वर्क एक्सपीरियंस के हिसाब से परीक्षा में वेटेज देने को लेकर याचिका दायर की गई थी। हाईकोर्ट ने एग्जाम से पहले गेस्ट फैकल्टी के मुद्दे को लेकर एग्जाम पर स्टे लगाया था। केस की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा था कि गेस्ट फैकल्टी को परीक्षा में कम से कम 5 मार्क्स का वेटेज देना होगा। 1 साल के वर्क एक्सपीरियंस के लिए 5 मार्क्स के हिसाब से 5 सालों के वर्क एक्सपीरियंस के लिए 25 मार्क्स देने होंगे। BPSC TRE 3.0 पेपर लीक केस में अब तक क्या क्या हुआ.. एग्जाम से एक दिन पहले लीक हुआ पेपर, EoU ने की पुष्टि
EoU ने 14 मार्च को पटना के करबिगहिया और हजारीबाग में छापा मारकर गिरोह की पहचान की और सॉल्वर गैंग के 5 सदस्यों के साथ 250 कैंडिडेट्स को हिरासत में लिया था। छापेमारी के दौरान EoU को मिले क्वेश्चन पेपर और BPSC TRE के क्वेश्चन पेपर बिलकुल एक जैसे थे। EoU ने जांच की रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि की, कि 15 मार्च को बिहार में हुए TRE एग्जाम (शिक्षक भर्ती) का क्वेश्चन पेपर पहले ही गिरोह के पास मौजूद था। एग्जाम से एक दिन पहले पेन ड्राइव से लीक कराए क्वेश्चन पेपर
EoU की पूछताछ में ये सामने आया कि किसी और मेंबर ने इस गिरोह को एग्जाम से ठीक पहले पेन ड्राइव के जरिए क्वेश्चन पेपर मुहैया करा दिए थे। इसके बाद क्वेश्चन पेपर के कई प्रिंट आउट निकालकर अलग-अलग कॉपी तैयार की गईं और इसे गिरोह के बाकी लोगों तक पहुंचा दिया गया। 10 लाख में हुई कैंडिडेट्स को क्वेश्चन पेपर मुहैया कराने की डील
EoU को इस गिरोह के सदस्यों से एग्जाम के क्वेश्चन पेपर, अलग-अलग एग्जाम सेंटर्स में प्रवेश के लिए जरूरी एडमिट कार्ड, कैंडिडेट्स के ओरिजिनल सर्टिफिकेट्स, 50,000 रुपए का ब्लैंक चेक, 50 मोबाइल फोन, लैपटॉप, प्रिंटर और पेन ड्राइव भी बरामद किए हैं। जांच में सामने आया कि परीक्षा से पहले क्वेश्चन पेपर मुहैया कराने के लिए हर कैंडिडेट से 10 लाख रुपए की डील की थी। झारखंड पुलिस की मदद से पकड़े गए सॉल्वर गैंग के सदस्य
दरअसल, EoU को एग्जाम से पहले ये जानकारी मिल गई थी कि BPSC TRE 3.0 परीक्षा के पेपर एग्जाम से पहले ही मुहैया कराने के बहाने से कैंडिडेट्स से 10-10 लाख रुपए लिए जा रहे हैं। 13 मार्च को EoU ने पटना में जांच के लिए एक स्पेशल टीम तैयार की। जांच के दौरान सॉल्वर गैंग से जुड़े एक सदस्य को करबिगहिया से गिरफ्तार किया गया। झारखंड पुलिस की मदद से ये गिरफ्तारी की गई। शिव कुमार पहले भी पेपर लीक करवा चुका है
EoU ने BPSC TRE 3.0 पेपर लीक के मुख्य आरोपी को मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार किया। EoU ने बताया कि शिव कुमार पहले भी 2017 में NEET-UG के पेपर लीक कांड में शामिल था। इस मामले में पटना के पत्रकार नगर थाना में एक केस दर्ज है। इसके साथ शुभम मंडल नाम का व्यक्ति भी लगातार कई महत्वपूर्ण सरकारी संस्थाओं की प्रतियोगिता परीक्षाओं में प्रश्न पत्र लीक को अंजाम देता आ रहा है। ये दोनों इस बार भी पेपर लीक में शामिल थे। ये मिलकर उत्तर प्रदेश, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार के साथ दूसरे राज्यों में भी ऑपरेट करते हैं। इस साल उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की सिपाही भर्ती परीक्षा के पेपर लीक केस में भी इस गैंग का नाम सामने आया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments