Wednesday, May 22, 2024
HomeGovt Jobsआरएएस (प्रारंभिक) की OMR शीट की कार्बन कॉपी में छेड़छाड़:अभ्यर्थी ने कोर्ट...

आरएएस (प्रारंभिक) की OMR शीट की कार्बन कॉपी में छेड़छाड़:अभ्यर्थी ने कोर्ट में गलत सबूत किया पेश,  RPSC ने दो साल के लिए किया डिबार

राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से आरएएस (प्रारंभिक) परीक्षा-2023 में ओएमआर शीट की कार्बन प्रतिलिपि में छेडछाड़़ कर कोर्ट में गलत तथ्य प्रस्तुत करने का मामला सामने आया है। आयोग ने अभ्यर्थी को 2 सालों के लिए आयोग की ओर से आयोजित सभी परीक्षाओं से डिबार किया है। आयोग सचिव रामनिवास मेहता ने इस संबंध में आदेश जारी किया है। यह है मामला, कोर्ट में दायर की याचिका आयोग सचिव मेहता ने बताया कि राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से आरएएस (प्रारंभिक) परीक्षा-2023 का आयोजन 1 अक्टूबर 2023 को किया गया था। परीक्षा का परिणाम 20 अक्टूबर 2023 को घोषित किया गया। ग्राम अजाड़ी खुर्द जिला झुंझुनूं निवासी अभ्यर्थी दीपक जोशी की ओर से इस परीक्षा में प्रश्न-पत्र के कुल 150 प्रश्नों में से 55 प्रश्नों में किसी भी विकल्प का चयन नहीं किया गया था। 10 प्रतिशत से अधिक प्रश्नों में किसी भी विकल्प का चयन नहीं किए जाने के कारण परीक्षा परिणाम में अभ्यर्थी को अयोग्य घोषित किया गया। अयोग्य घोषित किए जाने पर अभ्यर्थी ने स्वयं के पास उपलब्ध ओएमआर शीट की प्रतिलिपि में खाली छोड़े गए 55 प्रश्नों के विकल्पों में से 49 प्रश्नों के विकल्पों को भरकर फर्जीवाड़ा करते हुए माननीय उच्च न्यायालय में याचिका दायर की। मिलान किया तो पकड़ा गया फर्जीवाड़ा

अभ्यर्थी दीपक जोशी की ओर से न्यायालय में प्रस्तुत ओएमआर शीट की प्रतिलिपि का मिलान आयोग कार्यालय में उपलब्ध अभ्यर्थी की मूल ओएमआर शीट से किया। इसकी जांच में पाया कि अभ्यर्थी द्वारा खाली छोड़े गए प्रश्नों के विकल्पों को जानबूझकर ओएमआर शीट की कार्बन प्रतिलिपि में बाद में भरा गया है। आयोग द्वारा प्रकरण में तथ्यात्मक रिपोर्ट उच्च न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत की। मामला उजागर होते देख अभ्यर्थी द्वारा न्यायालय के समक्ष याचिका वापस लेने के लिए प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया। न्यायालय द्वारा 23 जनवरी 2024 को याचिकाकर्ता द्वारा याचिका को विदड्रा किए जाने के कारण खारिज कर दिया गया। छेड़छाड़ को माना गम्भीर, की कार्रवाई ओएमआर शीट की कार्बन प्रति में किसी भी प्रकार की छेडछाड आयोग के रिकार्ड से छेडछाड़ की श्रेणी के अन्तर्गत आता है। इसके उपरांत आयोग द्वारा प्रकरण में दीपक जोशी को व्यक्ति सुनवाई के लिए 15 मार्च 2024 को बुलाया गया। व्यक्तिगत सुनवाई एवं प्रकट तथ्यों के आधार पर यह पाया गया कि अभ्यर्थी द्वारा पूर्व में खाली छोड़े गए 55 प्रश्नों में से 49 प्रश्नों के विकल्प को ओएमआर शीट की कार्बन प्रतिलिपि जो स्वयं अभ्यर्थी के पास थी, को जालसाजी कर भर दिया गया। इस प्रकार का कृत्य अनुचित साधन अपनाये जाने की श्रेणी में आता है। आयोग के निर्णयानुसार अभ्यर्थी को ’’टेम्परिंग विद हिज ऑन आंसर बुक कृत्य का दोषी माना गया है। इस अनुसार अभ्यर्थी द्वारा दी गई परीक्षा को निरस्त करते हुए आयोग द्वारा आगामी 2 वर्षों में आयोजित होने वाली सभी परीक्षाओं से अभ्यर्थी को डिबार किया गया है। चयन प्रक्रिया पूर्ण होने तक सुरक्षित रखनी होती है कार्बन प्रति आयोग सचिव ने बताया कि आयोग द्वारा 24 अगस्त 2023 को जारी की गई सूचना अनुसार अभ्यर्थियों को परीक्षा समाप्ति पर पूरी ओएमआर शीट वीक्षक को सौंपनी होती है। वीक्षक इसकी मूल प्रति को स्वयं के पास जमा कर कार्बन प्रति को सावधानीपूर्वक अलग करते हुए परीक्षार्थी को देते हैं। इस कार्बन प्रति को परीक्षार्थी अपने साथ ले जाता है। चयन प्रक्रिया पूर्ण होने तक परीक्षार्थी को इस कार्बन प्रति को सुरक्षित रखना एवं आयोग द्वारा मांगने पर प्रस्तुत करना होता है। 1920 अभ्यर्थियों को अयोग्य घोषित किया था इस परीक्षा में 10 प्रतिशत से अधिक प्रश्नों में किसी भी विकल्प का चयन न करने वाले 1920 अभ्यर्थियों को अयोग्य घोषित किया गया था। आयोग द्वारा इस परीक्षा से ही वस्तुनिष्ठ भर्ती परीक्षाओं में प्रत्येक प्रश्न का पांचवा विकल्प देने की शुरुआत की गई थी। इसमें यदि अभ्यर्थी किसी प्रश्न का उत्तर नहीं देना चाहे तो उसे पांचवे विकल्प ’’अनुतरित प्रश्न’’ का चयन कर ओएमआर शीट पर गोले को भरना होता है। किसी भी विकल्प का चयन न करने पर प्रश्न अंक का 1/3 भाग काटने तथा 10 प्रतिशत से अधिक प्रश्नों में किसी भी विकल्प का चयन न करने पर अभ्यर्थी को संबंधित परीक्षा के लिए अयोग्य घोषित किए जाने का प्रावधान भी आयोग द्वारा किया गया है। इस संबंध में आयोग द्वारा निरंतर अभ्यर्थियों को समय-समय पर सूचित भी किया जाता रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments