Tuesday, June 18, 2024
HomeMiscellaneousदयाल के पिता बोले-110 मी. का छक्का देखकर डर गया:लगा- कहीं धोनी...

दयाल के पिता बोले-110 मी. का छक्का देखकर डर गया:लगा- कहीं धोनी भी मैच छीन न ले जाए, रिंकू की पारी याद आई

यश दयाल के पिता चंद्रपाल दयाल को धोनी के 110 मीटर लंबा छक्का लगाने के बाद उन्हें IPL में पिछले सीजन यश के ओवर में खेली गई रिंकू सिंह की पारी याद आ गई। चंद्रपाल कहते हैं कि ओवर की अगली गेंद पर बेटे (यश ) ने धोनी को आउट कर दिया तो मुझे भरोसा हो गया कि वह कप्तान की उम्मीदों पर खरा उतर गया। चंद्रपाल दयाल ने दैनिक भास्कर से बातचीत की। उन्होंने पिछले सीजन में KKR के बल्लेबाज रिंकू सिंह के यश के पांच गेंदों पर पांच छक्के लगाए जाने के बाद यश के डिप्रेशन से उबरने और उनके आगे के करियर के बारे में बात की। साथ ही शनिवार को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ की गई गेंदबाजी को लेकर भी बातचीत की। सवाल- यश के ओवर की पहली गेंद पर धोनी के छक्के के बाद मन में क्या चल रहा था?
जवाब- जब यश की पहली गेंद पर एमएस धोनी ने 110 मीटर लंबा छक्का जड़ दिया, तो हमें IPL-2023 में यश के ओवर में रिंकू सिंह की खेली गई पारी याद आ गई। एक साल पहले की घटना मेरी आंखों के सामने आ गई। मैं थोड़ा डर गय कि कहीं धोनी भी मैच RCB के मुंह से छीन न ले जाएं और दोष बेटे पर फिर न आ जाए, लेकिन यह डर अगली ही गेंद में दूर हो गया, जब यश ने धोनी को आउट कर पवेलियन भेज दिया। मुझे लगा अब मैच बेटा बचा ले जाएगा। दरअसल, IPL के पिछले सीजन में यश दयाल गुजरात टाइटंस का हिस्सा थे। KKR के खिलाफ एक मैच में गुजरात के कप्तान हार्दिक पंड्या ने आखिरी ओवर युवा प्लेयर यश को सौंपा था। उस समय KKR को जीत के लिए 6 गेंदों पर 28 रनों की जरूरत थी। बल्लेबाज रिंकू सिंह ने 5 गेंदों पर 5 छक्का लगाकर कोलकाता को जीत दिला दी। सवाल- जब कप्तान ने यश को आखिरी ओवर दिया और क्रीज पर धोनी थे। तब आपको कितना भरोसा था?
जवाब- मुझे विश्वास था कि बेटा कप्तान के भरोसे पर खरा उतरेगा और RCB को प्लेऑफ में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाएगा, हालांकि क्रीज पर धोनी और रवींद्र जडेजा थे, ऐसे में मन में थोड़ा डर भी था। मन में यही चल रहा था कि बेटा इस मैच को बचा ले जाए। यश का इस सीजन में प्रदर्शन काफी बेहतर रहा है, वह टीम के सफल गेंदबाज रहे हैं। सवाल- रिंकू के 5 छक्कों के बाद यश डिप्रेशन में चल गए थे और इस सीजन में शानदार वापसी की है, इसके बारे में बताइए?
जवाब- मैं भी जोनल लेवल का क्रिकेटर रहा हूं। यश बचपन से ही गेंदबाजी करता था। हमें उसकी तकनीक पर कोई संदेह नहीं था। मुझे पता था कि यश पहला गेंदबाज नहीं है, जिसके एक ओवर में 5 छक्के लगे हैं। ऐसा भी नहीं है कि आगे किसी गेंदबाज के ओवर में नहीं लगेगा। हमारे लिए उसको इस सदमे से बाहर निकालना चुनौती पूर्ण था। एक पिता के तौर पर मुझे उसे फिर से पटरी पर लाना था। मैंने और मेरी पत्नी सहित परिवार के सभी लोगों ने उस पर भरोसा जताया। मैंने कहा कि वह इकलौता नहीं है, जिसके एक ओवर में किसी बैटर ने 5 छक्के जड़े हैं। यह गेम का हिस्सा है। जब वह IPL से लौटा तो मैं उसको रेगुलर अकादमी लेकर जाता था। मैं उससे कहता था कि हम सभी को तुम पर भरोसा है, फिर से तुम अपने-आप को साबित करोगे। परिवार के सभी लोग उससे रेगुलर बात करते थे। धीरे-धीरे वह इस सदमे से बाहर आ गया। मुझे खुशी है कि बेटे ने अपने आपको फिर से IPL में साबित करके दिखाया। सवाल- गुजरात ने उन्हें रिलीज कर दिया, तब आपके और यश के मन में क्या चल रहा था?
जवाब- गुजरात टाइटंस ने यश को रिटेन नहीं किया और उसे रिलीज कर दिया। इस पर यश थोड़ा निराश हुआ। मेरे मन में भी था कि क्या होगा? हालांकि कई फ्रेंचाइजी के अधिकारी यश के संपर्क में थे, ऐसे में उम्मीद थी कि कोई न कोई टीम इन्हें जोड़ ही लेगी। जब बिड हो रही थी और उनसे पहले दो प्लेयर्स अनसोल्ड हो गए तो यश के साथ ही मैं भी थोड़ा नर्वस हो गया था। पर यश पर एक बार RCB के साथ गुजरात भी बोली लगा रही थी, तो मुझे लगा कि गुजरात को कहीं न कहीं ये अफसोस था कि उन्हें रिलीज क्यों किया? बेंगलुरु ने जब उन्हें बड़ी रकम (5 करोड़) लगाकर अपने साथ जोड़ा तो हमें इस पर यकीन नहीं हुआ। हम भगवान के शुक्रगुजार हैं कि उन्हें मौका मिला और उन्होंने अपने को फिर से साबित किया। सवाल – क्या आपको लग रहा था कि RCB प्लेऑफ में पहुंचेगी। बेटे से बात हुई थी?
जवाब- हमें भरोसा था कि RCB चेन्नई को हराकर प्लेऑफ में पहुंचेगी। मैं और मेरी पत्नी ने बेटे के बेहतर प्रदर्शन और RCB की जीत के लिए मंदिर में जाकर पूजा-अर्चना की थी। मैच से पहले यश से बात हुई थी और उसने कहा कि आप मैच को लेकर चिंता न करें, हम जरूर जीतेंगे और प्लेऑफ में पहुंचेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments