Wednesday, May 22, 2024
HomeGovt JobsCBSE टॉप स्कोरर के टिप्स:पहले टफ चैप्टर्स को किया कंप्लीट; कोचिंग के...

CBSE टॉप स्कोरर के टिप्स:पहले टफ चैप्टर्स को किया कंप्लीट; कोचिंग के बजाय सेल्फ स्टडी पर फोकस किया

सोमवार 12 मई को CBSE ने 10वीं-12वीं बोर्ड एग्जाम्स का रिजल्ट जारी कर दिया है। बोर्ड ने कोई मेरिट लिस्ट जारी नहीं की है और ना ही किसी टॉपर का नाम अनाउंस किया है। बोर्ड की ये पहल अनहेल्दी कॉम्पीटिशन को खत्म करने के लिए है। दैनिक भास्कर ने CBSE बोर्ड एग्जाम देने वाले कुछ ऐसे स्टूडेंट्स से बात की जिन्होंने सभी सब्जेक्ट्स में अच्छा स्कोर किया है। स्टूडेंट्स ने किस तरह खुद को मोटिवेट किया और कंपीटिशन में खुद को पूरी तरह तैयार रखा। यामिनी यादव ने 10वीं में किया टॉप
यामिनी, रेयान इंटरनेशनल स्कूल भोपाल की स्टूडेंट्स हैं।10वीं CBSE में इनका 97% स्कोर रहा है। यामिनी के संस्कृत में 99 मार्क्स आए हैं। मैथ्स में 98, साइंस में 94, इंग्लिश में 95 और एसएसटी में 95 मार्क्स आए हैं। यामिनी ने बताए अपने सक्सेस टिप्स मैं शुरुआत यानी KG 1 से ही इस स्कूल में पढ़ रही हूं। मेरे पैरेंट्स ने मुझे हमेशा सपोर्ट किया है। स्कूल से मुझे हमेशा सही गाइडेंस मिला है। मैंने स्कूल स्टडी पर ही भरोसा किया है और किसी भी तरह के कोचिंग इंस्टिट्यूट को जॉइन नहीं किया था। मैं स्कूल के नोट्स के अलावा सेल्फ स्टडी करती थी। टाइम टेबल हमेशा काम आता है
मेरा वैसा कोई फिक्स रूटीन नहीं था। लेकिन मैंने एग्जाम के लिए टाइम टेबल बनाया था। एग्जाम के लिए टाइम टेबल फॉलो करना फायदेमंद होता है। मैं नॉर्मल स्कूल टाइमिंग के बाद 3-6 बजे तक यानी सिर्फ डेली चार घंटे पढ़ती थी। कॉन्सेप्ट क्लीयर नहीं होने पर यूटयूब देखा
स्कूल के नोट्स और स्टडी हमेशा ही मेरे काम आई है। लेकिन कभी-कभी जब कोई इक्वेशन या कॉन्सेप्ट समझ नहीं आया, तब मैं उसे यूटयूब पर देखती थी। मैं कभी-कभी मैग्नेट ब्रेन ब्रेन चैनल से पढ़ा है। कंसिस्टेंसी बेहद जरूरी
स्कूल के नोट्स से मैनें पढ़ाई की है। मुझे लगता है पढ़ने के लिए कंसिस्टेंसी बेहद जरूरी है और मैंने शुरुआत से ही उसे बनाए रखा है, जिससे मुझे किसी भी सब्जेक्ट में परेशानी नहीं आई। संस्कृत, मैथ्स में हाईएस्ट स्कोर
संस्कृत और मैथ्स में मेरा हाईएस्ट स्कोर रहा है। मुझे लगता है दोनों ही सब्जेक्ट ऐसे है कि अगर आप समझ लें तो आप फुल मार्क्स स्कोर कर सकते हैं। टीचर्स और पैरेंट्स का पूरा सपोर्ट मिला। जिसकी वजह से मैं अच्छा स्कोर कर पाई हूं। 11वीं में पीसीएम लूंगी और नीट की तैयारी करूंगी। आगे जाकर में डॉक्टर बनाना चाहती हूं। मेरा सपना एम्स में पढ़ने का है। आशु देवनाथ ने 12वीं में किया टॉप
आशु देवनाथ का साइंस स्ट्रीम में 96% स्कोर है। मैथ्स में उनके 99 मार्क्स आए हैं। फिजिक्स में 95, इंग्लिश में 90, कंप्यूटर में 97 और कैमिस्ट्री में 98 मार्क्स आए हैं। आशु ने बताया टफ चैप्‍टर्स को कैसे समझा
मेरे स्कूल में सिलेब्स पहले ही पूरा करवा दिया था। इसे बस हमें रिवाइज करना था। इसकी वजह से मुझे पढ़ने में आसानी हो गई थी। मैंने आसान चैप्टर्स को बाद में पढ़ा। पहले टफ सिलेबस को कंप्लीट किया। नोट्स बनाकर तैयारी की
मैंने नोट्स बनाकर पढ़ाई की थी। इस वजह से मुझे किसी भी तरह की परेशानी नहीं हुई। मैंने रूटीन बनाकर एग्जाम की तैयारी की। लेकिन कोई फिक्स टाइम नहीं था। मैंने स्कूल में बनाए गए नोट्स से ही रिवीजन किया है। कन्फ्यूजन हुआ तो ऑनलाइन लेक्चर देखे
स्कूल में जो भी पढ़ाया जाता है, उसे मैंने पूरी तरह से पढ़ा है लेकिन कभी-कभी किसी क्लास में कन्फ्यूजन हुआ तो मैंने ऑनलाइन क्लासेस की मदद ली है। हालांकि उसके लिए मैंने किसी एक प्लेटफॉर्म को नहीं चुना है। मुझे जिस चैनल पर लगा की मैं समझ सकता हूं मैंने उसी चैनल से पढ़ाई की है। सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता हूं
मैं सॉफ्टवेयर इंजीनियर चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि मैं आईआईटी जाऊं। हालांकि सिर्फ आईआईटी जैसा कुछ अभी सोचा नहीं है कि किस आईआईटी से पढ़ना है या आईआईटी से ही पढ़ना है। प्रिंसिपल ने कहा पूरे साल की मेहनत का फल है
रेयान इंटरनेशनल स्‍कूल की प्रिंसिपल ने कहा, ‘स्कूल टीचर्स, मैनेजमेंट टीम की ओर से सभी टॉपर्स को बधाई। स्टूडेंट्स ने अपने फाइनल एग्जाम में अच्छे मार्क्स प्राप्त करके खुद को, अपने स्कूल को, अपने माता-पिता को गौरवान्वित किया है। यह उनकी साल भर की मेहनत का नतीजा है। मैं इस अवसर पर टीचर्स को धन्यवाद देना चाहूंगी। टीचर्स ही हैं जो स्टूडेंट्स​​​​​​ पर शुरू से मेहनत करते हैं।’

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments