Saturday, June 15, 2024
HomeMiscellaneousIPL के बाद टी-20 वर्ल्डकप, भारत के लिए खतरा:अब तक 3 टूर्नामेंट...

IPL के बाद टी-20 वर्ल्डकप, भारत के लिए खतरा:अब तक 3 टूर्नामेंट खेले, तीनों बार ग्रुप स्टेज से बाहर

मोहम्मद शमी की गेंद पर बाबर आजम ने लॉन्ग ऑन की दाईं ओर शॉट खेला और दो रन लेकर इतिहास रच दिया। पाकिस्तान ने 24 अक्टूबर 2021 को दुबई में खेले गए इस टी-20 मैच में भारत पर 10 विकेट से जीत हासिल कर ली थी। वर्ल्ड कप हिस्ट्री में यह पाकिस्तान की भारत पर पहली जीत थी। यह भारत-पाकिस्तान मुकाबला उस साल IPL खत्म होने के महज चार दिन बाद हुआ था। भारत इसमें हारा ही, अगले मुकाबले में न्यूजीलैंड से भी हार गया। इन दो हार की वजह से टीम इंडिया उस टूर्नामेंट के ग्रुप स्टेज से ही बाहर हो गई। अब 2024 में लौटते हैंं। IPL 26 मई को खत्म हुआ है और इसके 6 दिन बाद टी-20 वर्ल्ड कप शुरू हो रहा है। क्या इस बार भी भारत के सामने 2021 जैसा खतरा है? इसे समझने के लिए हम जानेंगे कि भारतीय टीम कब-कब IPL खत्म होने के तुरंत बाद टी-20 वर्ल्ड कप में उतरी है और उन मौकों पर टीम का क्या हाल हुआ। टी-20 वर्ल्ड कप मिशन पर निगेटिव इम्पैक्ट
यह चौथा मौका है जब भारतीय टीम IPL सीजन खत्म होने के दो सप्ताह के अंदर टी-20 वर्ल्ड कप में खेलने उतरेगी। इससे पहले के तीन मौके भारत के लिए सुखद नहीं रहे। टीम 2009, 2010 और 2021 में IPL के 6 से 12 दिन बाद ही टी-20 वर्ल्ड खेलने उतरी। इन तीनों मौकों पर टीम ग्रुप स्टेज भी पार नहीं कर सकी। शुरुआती 2 मौकों पर कप्तान एमएस धोनी रहे, वहीं 2021 में आखिरी बार टीम विराट कोहली की कप्तानी में ग्रुप स्टेज पार नहीं कर सकी। ICC के वनडे टूर्नामेंट पर पॉजिटिव इम्पैक्ट
IPL के ठीक बाद टी-20 वर्ल्ड कप में भले ही भारतीय टीम अच्छा प्रदर्शन न कर पाती हो लेकिन वनडे टूर्नामेंट में असर एकदम उल्टा दिखता है। भारतीय टीम 2008 से अब तक 3 बार IPL खत्म होने के बाद किसी वनडे ICC टूर्नामेंट में खेलने उतरी और तीनों बार टीम का प्रदर्शन अच्छा रहा है। टीम इंडिया ने IPL खत्म होने के बाद 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी जीती और 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी में रनर-अप रही। 2019 के वनडे वर्ल्ड कप में भी टीम IPL के बाद ही खेलने उतरी, यहां टीम सेमीफाइनल तक पहुंची। IPL के ठीक बाद एक WTC फाइनल भी गंवाया
भारत ने 2023 में IPL फाइनल के 8 दिन बाद ही वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल भी खेला। 2 महीने चले टूर्नामेंट में थक चुके भारतीय प्लेयर्स ऑस्ट्रेलिया के सामने कोई चुनौती नहीं पेश कर सके। जिस कारण टीम को 209 रन की हार मिली और लगातार दूसरी बार रनर-अप बनकर संतोष करना पड़ा। पाकिस्तान-बांग्लादेश से सीरीज भी हारे
IPL के ठीक बाद टीम इंडिया को द्विपक्षीय और ट्राई सीरीज में भी कम सफलता मिलती है। टीम ने IPL के बाद 9 सीरीज खेलीं, 5 जीतीं, 3 गंवाईं और एक ड्रॉ भी खेली। टीम को 2008 में पाकिस्तान ने ट्राई सीरीज का फाइनल हराया। वहीं 2015 में बांग्लादेश और 2020 में ऑस्ट्रेलिया ने वनडे सीरीज हराईं। 2022 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज 2-2 से ड्रॉ भी रही। IPL आने के बाद भारत को 2 ही बार सफलता मिली… 2008 से भारत ने 5 फाइनल गंवाए
IPL के ठीक बाद ICC का टी-20 टूर्नामेंट खेलना भारत के लिए ठीक नहीं रहता लेकिन 2008 में IPL की शुरुआत के बाद भी भारत को ओवरऑल ज्यादा सफलता नहीं मिल सकी है। टीम इंडिया ने 2008 से 2024 तक ICC के 16 टूर्नामेंट खेले, टीम 7 बार फाइनल में पहुंची और महज 2 बार खिताब जीत सकी। 4 बार टीम सेमीफाइनल से बाहर हुई, वहीं 5 बार ग्रुप स्टेज भी पार नहीं कर सकी। 2 सफलता वनडे टूर्नामेंट में मिली, 2011 में टीम ने घर में वनडे वर्ल्ड कप जीता, वहीं 2013 में टीम ने इंग्लैंड में चैंपियंस ट्रॉफी जीती। टीम इंडिया 7 फाइनल में 5 बार रनर-अप रही। 2014 के टी-20 वर्ल्ड कप में श्रीलंका ने हराया। 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान ने हराया। 2023 के वनडे वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया ने हराया। वहीं 2021 में न्यूजीलैंड और 2023 में ऑस्ट्रेलिया ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल हराया। यानी IPL के बाद भारत ने नॉकआउट में पहुंचने का सिलसिला तो शुरू कर दिया लेकिन खिताब जीतना अब भी दूर है। 2 कारणों से IPL के ठीक बाद ICC टूर्नामेंट खेलने में होती है परेशानी… 1. तैयारी का टाइम नहीं मिलता
IPL में भारतीय प्लेयर्स अपनी-अपनी टीमों के साथ अलग स्ट्रैटजी और अलग ट्रैनिंग प्रोसेस में खेलते हैं। सभी खिलाड़ी IPL के ठीक बाद ICC टूर्नामेंट के लिए वेन्यू पर पहुंच जाते हैं। जहां टीम बॉन्डिंग और तैयारी के लिए बहुत कम समय मिलता है। जब तक बॉन्डिंग, स्ट्रैटजी और ट्रैनिंग में प्लेयर्स ढलना शुरू करते हैं, तब तक बहुत देर हो जाती है और टीम का मोमेंटम हार की ओर चला जाता है। 2023 में WTC फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मिली हार के बाद भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने भी कहा था कि उन्हें तैयारी के लिए बहुत कम टाइम मिला। इतने बड़े मैच से पहले 20-25 दिन की प्रैक्टिस चाहिए थी। 2. खिलाड़ी थक जाते हैं
IPL 2 महीने तक चलने वाला टूर्नामेंट है, इसमें टीम इंडिया के ज्यादातर खिलाड़ी खेलते हैं। 2 महीने तक लगातार खेलने के ठीक बाद एक और टूर्नामेंट खेलना खिलाड़ियों के लिए मुश्किल होता है। क्योंकि प्लेयर्स मेंटली और फिजिकली रूप से थक चुके होते हैं। इस बार भी कप्तान रोहित शर्मा समेत कुछ प्लेयर्स 25 मई को ही अमेरिका के लिए निकले। IPL फाइनल 26 मई को हुआ, इसलिए बाकी प्लेयर्स 27 और 28 मई को भारत से रवाना हुए। वर्ल्ड कप स्क्वॉड में शामिल सभी 15 खिलाड़ियों ने IPL खेला। इतना ही नहीं 4 रिजर्व प्लेयर्स भी IPL खेलने में व्यस्त थे। 19 में से 7 प्लेयर्स तो प्लेऑफ तक टूर्नामेंट का हिस्सा रहे। हरभरजन सिंह ने भी माना, थक जाते हैं खिलाड़ी
टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह ने पिछले दिनों भास्कर से कहा था, IPL बहुत थकाऊ टूर्नामेंट है। वर्ल्ड कप में खिलाड़ियों पर इस लीग की थकान जरूर दिखाई देगी। IPL के दौरान खिलाड़ियों को सिर्फ मैच ही नहीं, ट्रैवल करने से भी थकान होती है। हरभजन ने कहा, खिलाड़ी मेंटली और फिजिकली रूप से थक जाते हैं, इसलिए खिलाड़ी टी-20 वर्ल्ड कप को भी IPL का हिस्सा मानकर ही खेलना चाहिए। उन्होंने आगे कहा, वर्ल्ड कप से बड़ा कुछ नहीं है, इसलिए आप अपनी थकान भूलकर अपना बेस्ट दें। ******* ग्राफिक्स- कुणाल शर्मा ——————————- वर्ल्ड कप इंडेप्थ रिपोर्ट पार्ट-3 में पढ़िए… अमेरिका में क्यों हो रहा टी-20 वर्ल्ड कप: एशियाई आबादी के बीच खेल पॉपुलर, अपनी फ्रेंचाइजी लीग भी शुरू की ये साल 1751 का किस्सा है। ‘न्यूयॉर्क वीकली पोस्ट बॉय’ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, लंदन और न्यूयॉर्क के बीच एक क्रिकेट मैच खेला गया। न्यूयॉर्क ने मैच जीत लिया। ये किस्सा उन लोगों के लिए है, जो अभी तक ये सवाल पूछ रहे हैं कि अमेरिका में टी-20 वर्ल्ड कप क्यों खेला जा रहा है। पढ़ें पूरी खबर…

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments